fbpx
सवाई माधोपुरEDUCATION UPDATESजयपुर मंडलजोधपुर मंडल
Trending

निशुल्क यूनिफॉर्म का इंतजार: जिले के 729 सरकारी स्कूलों के 55 हजार विद्यार्थियों को निशुल्क यूनिफॉर्म का इंतजार

निशुल्क यूनिफॉर्म का इंतजार: जिले के 729 सरकारी स्कूलों के 55 हजार विद्यार्थियों को निशुल्क यूनिफॉर्म का इंतजार

निशुल्क यूनिफॉर्म का इंतजार: जिले के 729 सरकारी स्कूलों के 55 हजार विद्यार्थियों को निशुल्क यूनिफॉर्म का इंतजार

 

सवाई माधोपुर : निशुल्क यूनिफॉर्म का इंतजार: जिले के 729 सरकारी स्कूलों के 55 हजार विद्यार्थियों को निशुल्क यूनिफॉर्म का इंतजार

  • कक्षा एक से आठवीं तक के बालकों को दी जानी है निशुल्क यूनिफॉर्म, सत्र का पहला महीना बीता

पीपलवाड़ा कस्बे सहित क्षेत्र के स्कूलों में नए शैक्षिक सत्र का आगाज हो गया है, लेकिन सरकारी स्कूलों में निशुल्क यूनिफॉर्म योजना दो सत्र से अधरझूल में लटक रही है। इससे सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों व अभिभावकों में असमंजस की स्थिति बनी हुई हैं। सरकारी स्कूलों में पहली से आठवीं तक पढ़ने वाले विद्यार्थियों को निशुल्क यूनिफॉर्म देने की राज्य सरकार ने वर्ष 2021 में घोषणा की थी, लेकिन सरकारी स्कूलों तक अब तक ना तो कपड़ा पहुंचा और ना ही सिलाई का बजट दिया है।

 

एक जुलाई से शुरू हुए नए सत्र में विद्यार्थी बिना यूनिफॉर्म के ही आ रहे हैं। यह जरूर कहा जा सकता है कि इस अवधि में सरकार ने यूनिफॉर्म का रंग जरूर बदल दिया है। विद्यार्थियों को 600 रुपए में यूनिफॉर्म देनी है। इसमें से 425 रुपए कपड़े और 175 रुपए सिलाई के हैं। कपड़े की आपूर्ति को लेकर टेंडर प्रक्रिया चल रही है, जिसके बाद स्कूलों में कपड़ा आएगा और सिलाई की राशि स्कूल प्रबंधन समिति के एसएमसी के खातों में जमा की जाएगी।

राज्य सरकार ने 300 करोड़ की निविदाएं जारी कर इतिश्री कर ली। हिंदी एवं अंग्रेजी मीडियम में रंगों की भिन्नता के चलते कपड़ा सप्लाई करने वाले दुकानदार भी असमंजस में हैं। जिले में 55 हजार विद्यार्थियों को मिलनी है पोशाक: जिले के कुल 729 स्कूलों के 25 हजार 639 बालकों एवं 29 हजार 493 बालिकाओं को निशुल्क पोशाक मिलनी थी। ब्लॉक वाइज बात करें तो सवाई माधोपुर के ब्लॉक के 71, बौंली ब्लॉक के 90, बामनवास के 157, चौथ का बरवाड़ा के 87, गंगापुर सिटी 148, खंडार के 121 और मलारना डूंगर के 55 विद्यालयों कुल 729 विद्यालयों के लगभग 55 हजार बालक-बालिकाओं को यह पोशाक मिलनी थी। राज्य सरकार की ओर से पिछले दिनों जारी निविदा में 600 रुपए में दो यूनिफॉर्म उपलब्ध कराने की शर्त रखी गई थी। ज्यादातर कारोबारियों ने इस शर्त की वजह से निविदा से दूरी बना ली।

ज्यादातर कंपनियों का कहना था कि महंगाई के इस दौर में 600 रुपए में कपड़ा ही नहीं आता, ऐसे में सिलाई कहां से कराएंगे। यह रहेगा यूनिफॉर्म का कलर: शिक्षा विभाग द्वारा जारी ड्रेस कोड़ के आदेश के राजकीय स्कूलों में छात्रों को हल्की नीली शर्ट व गहरी भूरी, नेकर, पेंट, छात्राओं को हल्की नीली शर्ट, कुर्ता, गहरी भूरी सलवार, स्कर्ट दी जाएगी। वहीं कक्षा 5वीं तक की छात्राओं को चुन्नी नहीं दी जाएगी। कक्षा छह से आठवीं तक की छात्राओं की गहरे भूर रंग का दुपट्टा (चुन्नी), पांचवीं तक के छात्रों को शर्ट व नेकर व कक्षा छह आठवीं तक के छात्रों के लिए शर्ट व पेंट निर्धारित है।

स्कूली बालकों को निशुल्क यूनिफॉर्म उपलब्ध करवाने को लेकर पिछले सत्र में सरकार ने जिले के राजकीय स्कूलों में अध्ययन करने वाले बालक बालिकाओं के बैंक खातों की जानकारी जुटाई थी, लेकिन अभी तक न तो बालक-बालिकाओं के खातों में पैसा आया और न ही बच्चों को यूनिफॉर्म मिल सकी है। नया शैक्षिक सत्र शुरू होने बावजूद अभी भी राज्य सरकार के आदेश कि पालना में शिक्षा विभाग कोई तैयारी करता नजर नहीं आ रहा हैं।

सरकार द्वारा राजकीय स्कूलों के कक्षा 1 से 8 के बालक बालिकाओं को पोशाक देनी थी। अभी पोशाक कब दी जाएगी, इसकी जानकारी प्राप्त नही हुई है। सवाई माधोपुर के सभी सातों ब्लॉकों के 729 स्कूलों में नामांकन की सूचना भिजवाई जाएगी, जिससे बालकों को पोशाक मिल सके। गोविंद दीक्षित, जिला शिक्षा अधिकारी प्रारंभिक सवाई माधोपुर।

 

निशुल्क यूनिफॉर्म का इंतजार: जिले के 729 सरकारी स्कूलों के 55 हजार विद्यार्थियों को निशुल्क यूनिफॉर्म का इंतजार

मोनिका ईनानियाँ

नमस्कार मित्रो, मैं मोनिका ईनानियाँ एम. ए. & एम फिल मैं आपको शिक्षा जगत की हर एक हलचल से करवाउंगी अपडेट !!

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also
Close
Back to top button
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:

Adblock Detected

आपके सिस्टम में AD ब्लोकर है उसे निष्क्रिय कीजिए