fbpx
DIRECTORATE BIKANEREDUCATION UPDATESअजमेरबीकानेर
Trending

शिक्षा विभाग की रैंकिंग में श्रीगंगानगर प्रदेश में अव्वल: बीकानेर की स्थिति बिगड़ी टॉप-10 से गिरकर 31वें स्थान पर पहुंचा | हनुमानगढ़ को 12वां स्थान

शिक्षा विभाग की रैंकिंग में श्रीगंगानगर प्रदेश में अव्वल: बीकानेर की स्थिति बिगड़ी टॉप-10 से गिरकर 31वें स्थान पर पहुंचा | हनुमानगढ़ को 12वां स्थान

शिक्षा विभाग की रैंकिंग में श्रीगंगानगर प्रदेश में अव्वल: बीकानेर की स्थिति बिगड़ी टॉप-10 से गिरकर 31वें स्थान पर पहुंचा | हनुमानगढ़ को 12वां स्थान

 

बीकानेर: शिक्षा विभाग की रैंकिंग में श्रीगंगानगर प्रदेश में अव्वल: बीकानेर की स्थिति बिगड़ी टॉप-10 से गिरकर 31वें स्थान पर पहुंचा | हनुमानगढ़ को 12वां स्थान

शिक्षा विभाग की जिला रैंकिंग में बीकानेर की पोजीशन बिगड़ गई है। - Dainik Bhaskar

शिक्षा विभाग की जिला रैंकिंग में बीकानेर की पोजीशन बिगड़ गई है।

शिक्षा विभाग की जिला रैंकिंग में बीकानेर की पोजीशन बिगड़ गई है। राजस्थान स्कूल शिक्षा परिषद की ओर जुलाई के डेटा के आधार पर जारी रैंकिंग में बीकानेर टॉप टेन से लास्ट थ्री में पहुंच चुका है। पिछले साल का रिकॉर्ड देखा जाए तो बीकानेर लगातार टॉप टेन में आ रहा था। लेकिन वर्तमान में बीकानेर जिले को प्रदेश में 168.95 नम्बरों के साथ 31वीं पोजीशन मिली है। हालांकि 198.90 स्कोर के साथ बीकानेर संभाग का श्रीगंगानगर लगातार तीसरे माह भी प्रदेश में नंबर वन की पोजीशन पर है।

 

जून में भी श्रीगंगानगर जिला प्रदेश में टॉप था। प्रदेश के सभी जिलों में प्रतिस्पर्धा बढ़ाने और विद्यार्थियों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा उपलब्ध कराने के उद्देश्य से राजस्थान स्कूल शिक्षा परिषद की ओर से हर माह 44 बिन्दुओं के आधार पर सभी सरकारी स्कूलों की ऑनलाइन रैंकिंग तय की जाती है। इस रैंकिंग में संभाग के तीसरे जिले हनुमानगढ़ को 12 स्थान मिला है। बूंदी दूसरे और जयपुर तीसरे स्थान पर है। जबकि 161.96 स्कोर के साथ अजमेर 33वें और 168.41 के साथ जैसलमेर 32वीं रैंक पर है।

परिषद की अध्यक्ष अतिरिक्त राज्य परियोजना निदेशक शीलावती मीणा ने राज्य के सभी जिला शिक्षा अधिकारी तथा पदेन जिला परियोजना समन्वयकों को जिले और ब्लॉक की रैंकिंग का विश्लेषण करने के निर्देश दिए हैं। अंतिम तीन स्थानों पर रहने वाले अजमेर, जैसलमेर और बीकानेर जिलों की रैंकिंग में सुधार के लिए सघन मॉनिटरिंग करने के निर्देश दिए हैं।

इन 44 पैरामीटर के आधार पर तय की जाती है जिलों की रैंकिंग
शाला दर्पण पोर्टल पर नामांकन वृद्धि, आधार लिंकेज, बिजली, पानी, शौचालय, खेल मैदान, परीक्षा परिणाम, कर्मचारियों की संख्या, बेसिक प्रोफाइल, विद्यालयों में उपलब्ध संसाधन, सुविधाएं, सेवा रिकॉर्ड, छात्रवृत्ति योजना इत्यादि 44 बिंदुओं के आधार पर हर माह राजस्थान स्कूल शिक्षा परिषद की ओर से जिलो की रैंकिंग निर्धारित की जाती है।

इसलिए गिर गई बीकानेर की रैंक
प्रदेश में 3800 माध्यमिक स्कूलों काे उच्च माध्यमिक में क्रमोन्नत किया गया है। इनमें बीकानेर के 150 स्कूल शामिल हैं। सरकार ने स्कूल ताे क्रमोन्नत कर दिए, लेकिन उनमें मूलभूत सुविधाएं नहीं दीं। छात्राें के बैठने के लिए कमरे तक नहीं हैं। रैंकिंग गिरने का सबसे बड़ा कारण यहीं है। इससे पहले बीकानेर 7वें स्थान पर था।

क्याेंकि 150 स्कूल अपग्रेड किए, लेकिन सुविधाएं नहीं दीं
रैंकिंग में टॉप-10 जिले
जिला स्कोर रैंक

श्रीगंगानगर 198.90 1
बूंदी 198.87 2
जयपुर 198.62 3
चूरू 196.51 4
सीकर 193.58 5
पाली 186.78 6
उदयपुर 186.76 7
डूंगरपुर 185.22 8
करौली 183.50 9
चित्तौड़गढ़ 182.86 10

बीकानेर की रैंकिंग में सुधार के प्रयास किए जा रहे हैं। प्राथमिकता से इस संबंध में मॉनिटरिंग की जा रही हैं। जिन फैक्टर्स में सुधार की जरूरत है उन पर फोकस किया जा रहा है। – गजानंद सेवक, एडीपीसी, समग्र शिक्षा

शिक्षा विभाग की रैंकिंग में श्रीगंगानगर प्रदेश में अव्वल: बीकानेर की स्थिति बिगड़ी टॉप-10 से गिरकर 31वें स्थान पर पहुंचा | हनुमानगढ़ को 12वां स्थान

मोनिका ईनानियाँ

नमस्कार मित्रो, मैं मोनिका ईनानियाँ एम. ए. & एम फिल मैं आपको शिक्षा जगत की हर एक हलचल से करवाउंगी अपडेट !!

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also
Close
Back to top button
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:

Adblock Detected

आपके सिस्टम में AD ब्लोकर है उसे निष्क्रिय कीजिए