fbpx
बूंदीकोटा मंडल
Trending

हमारे मर्ज स्कूल को वापस चालू करवाओ | शिक्षकों की टीम से बोले अभिभावक-कोई भी छोटा बच्चा बाहर पढ़ने नहीं जाएगा

हमारे मर्ज स्कूल को वापस चालू करवाओ | शिक्षकों की टीम से बोले अभिभावक-कोई भी छोटा बच्चा बाहर पढ़ने नहीं जाएगा

बूंदी : हमारे मर्ज स्कूल को वापस चालू करवाओ | शिक्षकों की टीम से बोले अभिभावक-कोई भी छोटा बच्चा बाहर पढ़ने नहीं जाएगा

करवर पीईईओ की अगुवाई में शिक्षकों की टीम ने ड्राॅपआउट बच्चों को स्कूलों से जोड़ने के लिए बंजारा बस्ती जाकर अभिभावकों व बच्चों से संपर्क किया। टीम ने बस्तीवासियों से समझाइश कर शिक्षा से वंचित बच्चों को स्कूल भेजने की अपील की। इस पर बस्तीवासियाें ने दो टूक शब्दों में कहा कि पहले बस्ती का बंद प्राइमरी स्कूल शुरू करवाओ, तब हम बच्चों को पढ़ने भेजेंगे। गांव बस्ती से बाहर अपने बच्चों को दूसरे स्कूलों में भेजने के लिए मना कर दिया।

इस बारे में 2 अगस्त को भास्कर में प्रमुखता से खबर प्रकाशित हुई थी। इसके बाद शिक्षा विभाग मर्ज स्कूलों, बस्ती के ड्राॅपआउट बच्चों को स्कूलों से जोड़ने में जुटा है। शनिवार को करवर पीईईओ बृजगोपाल दीक्षित, अरियाली मिडिल स्कूल प्रधानाध्यापक मुरारीलाल माहुर, संस्कृत स्कूल के महावीर मीणा, वरिष्ठ शिक्षक जीवनलाल कोली बंजारा ने बस्तीवासियों से खूब समझाइश की, लेकिन उन्हाेंने अपने बच्चाें को स्थानीय स्कूल की बजाय बाहर भेजने से साफ इनकार कर दिया। संतरा, दाखा, करोड़ीबाई, तोतीबाई, मुन्नीबाई, अर्जुन, मांगीलाल, हुकुम, गजानंद ने बताया कि पहाड़ी की तलहटी में बसी बस्ती के प्राइमरी स्कूल को निर्धारित मापदंड पूरे करने के बावजूद 2015 में मर्ज कर अनियोजित ढंग से अरियाली स्कूल में शिफ्ट कर दिया।

अरियाली जाने का सीधा रास्ता नहीं है। कल्याणीखेड़ा करवर होकर अरियाली जाने के लिए 11 किमी चलना पड़ता है। करवर 8 किमी है। करीबी कल्याणीखेड़ा में दुर्गम रास्ते, खाळ-नाले में बच्चों के बहने का अंदेशा रहता है। अरियाली-कल्याणीखेड़ा का कच्चा रास्ता है। बरसात में आवाजाही थम जाती है। बंजारा बस्ती में 55 घर हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि उनकी कोई नहीं सुन रहा। स्कूल चालू करने के लिए किए धरना-प्रदर्शन पर भी कोरे आश्वासन मिले।

ड्रॉपआउट बच्चों को स्कूलों से जोड़ने के लिए अभिभावकों से समझाइश की, लेकिन वे बस्ती के मर्ज स्कूल काे वापस शुरू करने पर ही बच्चों का दाखिला स्थानीय स्कूल में कराने पर अड़े हैं। हमने विभागीय अफसरों को बता दिया है। बृजगोपाल दीक्षित, पीईईओ-प्रधानाचार्य, करवर सीनियर सैकंडरी स्कूल

 

मोनिका ईनानियाँ

नमस्कार मित्रो, मैं मोनिका ईनानियाँ एम. ए. & एम फिल मैं आपको शिक्षा जगत की हर एक हलचल से करवाउंगी अपडेट !!

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also
Close
Back to top button
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:

Adblock Detected

आपके सिस्टम में AD ब्लोकर है उसे निष्क्रिय कीजिए