fbpx
जयपुरUncategorizedजयपुर मंडल
Trending

राजस्थान स्कूल शिक्षा परिषद् द्वारा बहुभाषी शिक्षा की व्यापक योजना पर विचार विमर्श हेतु दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन

Rajasthan School Education Council organizes a two-day workshop to discuss the comprehensive plan of multilingual education

राजस्थान स्कूल शिक्षा परिषद् द्वारा बहुभाषी शिक्षा की व्यापक योजना पर विचार विमर्श हेतु दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन

राजस्थान स्कूल शिक्षा परिषद् द्वारा बहुभाषी शिक्षा की व्यापक योजना पर विचार विमर्श हेतु दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन

जयपुर 24 अगस्त। निपुण भारत मिशन कार्यक्रम अन्तर्गत बहुभाषी शिक्षा की व्यापक योजना पर विचार विमर्श हेतु दो दिवसीय राज्य स्तरीय कार्यशाला का शुभारम्भ 24 अगस्त 2022 को होटल क्लार्क आमेर में अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री पवन कुमार गोयल की अध्यक्षता में किया गया।

कार्यक्रम का परिचय राज्य परियोजना निदेशक डॉ. मोहन लाल यादव द्वारा प्रस्तुत किया गया। उन्हानें बताया कि बच्चों के सीखने में भाषाई दृष्टि से आ रही चुनौतियों, विषमताओं और जटिलताओं का समाधान ढंढूने के उद्देश्य से शिक्षा विभाग राजस्थान सरकार के साथ मिलकर यूनिसेफ और लैंग्वेज एवं लर्निंग फाउण्डेशन (LLF) द्वारा इस दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 में बहुभाषी शिक्षा की अवधारणा दी गई है। प्राथमिक कक्षाओं के बच्चों की शिक्षा में भाषा का समावेश उनके सामाजिक परिवेश में तारतम्यता स्थापित करने वाला होना चाहिए। कार्यशाला में प्रारम्भिक स्तर पर बच्चों को उनके घर की भाषा को सीखने-सीखाने की भाषा के रूप में इस्तेमाल करने के तरीकों तथा राज्य स्तर पर किए प्रयासों के परिणामों से प्राप्त अन्त दृष्टि पर परिचर्चा कर ठोस कार्ययोजना बनाए जाने की आवश्यकता पर जोर दिया।

 

इस अवसर पर अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री पवन कुमार गोयल ने अपने उद्बोधन में कहा कि सीखने के स्तर में कमी का सबसे मुख्य कारण प्रारम्भिक कक्षाओं में बच्चों के साथ संवाद तरीका व्यवहारिक नहीं है। अतः बच्चें प्रारम्भिक शिक्षा अपनी मातृ भाषा में ग्रहण कर सकें यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए। राजस्थान विविध सांस्कृतिक व सामाजिक विशिष्टताओं वाला प्रदेश है। अतः इसको ध्यान में रखकर शिक्षण अधिगम सामग्री का निर्माण किए जाने की आवश्यकता है। संभागियों से कहा कि कार्यशाला में जो सीखे उनका अनुसरण कार्यक्षेत्र में करें।

इस अवसर पर श्री धीर झींगरन निदेशक लैंग्वेज एवं लर्निंग फाउण्डेशन दिल्ली ने ‘‘शिक्षा में भाषा की भूमिका तथा घर की भाषा या परिचित भाषा में सीखने का महत्व’’ पर विस्तार से दृश्य श्रृष्य क्लिप्स के माध्यम से रोचकता से प्रकाश डाला। कार्यक्रम में डॉ. मोटाराम भादू, उपनिदेशक गुणवत्ता शिक्षा ने निपुण भारत मिशन की गाईडलाईन अनुसार आगामी वर्षों में राज्य व जिला स्तर पर किए जाने वाले कार्यों की रूपरेखा प्रस्तुत की। इस अवसर पर यूनिसेफ दिल्ली से शिक्षा विशेषज्ञ सुनीषा आहूजा तथा अमृता सेनगुप्ता व विभिन्न जिलों से मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी, डाइट प्रधानाचार्य, निदेशक बीकानेर तथा आरएससीईआरटी उदयपुर के अधिकारीगण उपस्थित रहें।

मोनिका ईनानियाँ

नमस्कार मित्रो, मैं मोनिका ईनानियाँ एम. ए. & एम फिल मैं आपको शिक्षा जगत की हर एक हलचल से करवाउंगी अपडेट !!

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also
Close
Back to top button
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:

Adblock Detected

आपके सिस्टम में AD ब्लोकर है उसे निष्क्रिय कीजिए